शनिवार, 9 मई 2009

नतुन स्वप्न


एखनो विनिद्र रजनी जागिया
सजनी जाले आधारे आलो

एखनो देखिनी प्रभात सुदिन
तबुओ स्वप्न साजाइ भालो

आशार तरीटी भाषाये सागरे
कूल भेंगे कुल गड़ी

स्तिमित आलोर प्रदीप जालाये
दियेछि
जीवन सिन्धु पाड़ी


-उत्तम शर्मा
संयोजक- भारतीय इन्साफ मोर्चा
मूल
कविता बंगला भाषा में

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपके टिप्पणी करने से उत्साह बढता है

प्रतिक्रिया, आलोचना, सुझाव,बधाई, सब सादर आमंत्रित है.......

काशिफ आरिफ

Related Posts with Thumbnails