बुधवार, 20 मई 2009

शान्ति चाहिए तो...

माननीय उच्चतम न्यायलय का कहना है ...
सुखी जीवन हेतु






















( हिन्दुस्तान अखबार से साभार )

1 टिप्पणी:

  1. aaj sare samaachar-patron ki yahi mukhya KHABAR hai.
    ekdam sahi baat hai.......ab ek kaanoon PURUSHON par ho rahi hinsa ke liye bhi bane.
    ------------ham to PURUSH-VIMARSH kai VARSHON se chalaa rahe hain.
    AAP BHI HAMAARE SAATH AAYEN.

    उत्तर देंहटाएं

आपके टिप्पणी करने से उत्साह बढता है

प्रतिक्रिया, आलोचना, सुझाव,बधाई, सब सादर आमंत्रित है.......

काशिफ आरिफ

Related Posts with Thumbnails