शुक्रवार, 22 मई 2009

सदा ही रहो चलते

''बिना रुके ,
मंजिल की और रहो बढ़ते ।
पर्वत श्रृंखालाओ को जीतने की
गर है चाहत ,
एक-एक करके ,चोटियों पर
सदा रहो चढ़ते ।
सबक अच्छाईयों के सीखने
के लिए ।
सद साहित्य को हरदम
रहो पढ़ते।
सफलता पाने का बस
रास्ता है यही ।
गिर-गिर के संभलो
मगर
सदा ही रहो चलते । ''

1 टिप्पणी:

  1. बहुत ही प्रेरक रचना है जीवन है चलने का नाम सफलता के लिये आप्के सभी सूत्र सार्थक हैं बधाइ

    उत्तर देंहटाएं

आपके टिप्पणी करने से उत्साह बढता है

प्रतिक्रिया, आलोचना, सुझाव,बधाई, सब सादर आमंत्रित है.......

काशिफ आरिफ

Related Posts with Thumbnails