मंगलवार, 23 जून 2009

इन्टरनेट की दुनिया का आखिरी पन्ना....

ज काफ़ी दिनो बाद पोस्ट कर रहा हु क्यौंकी हम भारत संचार निगम के अत्याचार के शिकार हो गये है, जब उनकी मर्ज़ी होती है तभी हमारी उंगलियां चलती है हमारे कीबोर्ड पर.......कल उन्की मेहरबानी हो गयी तो हम थोडा बहुत इधर उधर झांक रहे थे तो अचानक हमें एक ऐसा पेज मिला जिसे देखा तो दिल मे खयाल आया की आप लोगो को भी दिखा दिया जायें।
मुझे इंटर्नेट का पहला पन्ना तो नही मिला लेकिन आखिरी पन्ना ज़रूर मिल गया।
इस पन्ने को देखें और अपनी राय टिप्पणी के द्वारा ज़रुर दें।



3 टिप्‍पणियां:

  1. मेरे ब्‍लॉग पर तशरीफ लाने के लिए शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. चलिए, आपके रहते अंतिम पन्ने के दर्शन हो गये.

    उत्तर देंहटाएं
  3. Ladkiyo ke sath chedchad hoti hai to kon iska jimedar hota hai girl boys ya unka pahnava?

    उत्तर देंहटाएं

आपके टिप्पणी करने से उत्साह बढता है

प्रतिक्रिया, आलोचना, सुझाव,बधाई, सब सादर आमंत्रित है.......

काशिफ आरिफ

Related Posts with Thumbnails