गुरुवार, 29 अक्तूबर 2009

बाद्लों के ऊपर से सुर्य उदय का नज़ारा..मेरे कैमरे से!! Sunrise Pictures Above Clouds From My Camera

दीवाली के दिन मैने पिछ्ली पोस्ट लिखी थी...तब से छुट्टी पर चल रहे है! पहले दिल्ली के रास्ते बांम्बे...!!!! (अरे गलती हो गयी माफ़ी चाहता हूं राज ठाकरे जी) मुम्बंई फ़िर महाब्लेश्वर होते हुये गोवा और अब बैगंलौर में हूं। यहां आकर इंट्र्नेट इस्तेमाल करने का मौका मिला है तो आज अपना लेख लिखने बैठ गये। १८ अक्टुबर को सुबह पांच बजे दिल्ली से बांबे की फ़्लाइट थी तो सुबह ही आगरा से दिल्ली निकल गये थे।हम लोगों को सुबह जल्दी बांबे पहुचंना था इसलिये सबसे पहली जो फ़्लाइट थी उसमें बुकिंग करा ली थी। बांबे में हमारे दो दोस्त नौकरी करते है तो हमें उनके पास जाना था।

दिल्ली में थोडी-सी खरीदारी करने के बाद रात को बारह बजे एयरपोर्ट पहुंच गये मैं और मेरे तीन दोस्त वहां पर तीन बजे तक इन्तेज़ार किया फ़िर बोर्डिंग पास लिया और फ़्लाइट का इन्तेज़ार करने लगे। मैं पहले सफ़र कर चुका हुं लेकिन मेरे तीनों दोस्त पहली बार प्लेन से सफ़र कर रहे थे खैर जैसे-तैसे वक्त काटा और फ़िर बौर्डिग के लिये अनांउंसमेंट हुआ और हम लोग प्लेन में पहुंचे ठीक पांच बजे प्लेन ने उडांन भरी! रात भर का जागा हुआ था तो नींद आना लाज़मी था तो मैं सो गया तो थोडी देर बाद मेरे दोस्त ने मुझे जगाया और बाहर का नज़ारा देखने को बोला जैसे ही मैनें खिड्की के बाहर झांका तो बहुत खुबसुरत नज़ारा देखने को मिला जो आज तक कभी देखा और शायद ही कभी देखने को मिले!



हमारा प्लेन बादलों के ऊपर था और सुरज निकल रहा था मुझे फ़ोटोग्राफ़ी का बहुत शौक है धनतेरस पर ही मैनें नया कैमरा खरीदा है और वो मेरे साथ था तो मैनें फ़ौरन कैमरा निकाल लिया लेकिन बाद में खयाल आया की कैमरे के इस्तेमाल की इजाज़त प्लेन मे नही है तो मैनें सबसे पहले एयर होस्टेस से गुज़ारिश की, पहले तो उसने मना किया लेकिन जब मैनें फ़ोर्स किया तो उसने हां कर दी।

मेरे कैमरे से सुर्य उदय का नज़ारा बादलों के ऊपर से Sunrise Pictures Above Clouds













 



 


 



 



 


 

 उस एयरहोस्टेस ने एक शर्त पर इजाज़त दी थी की मैं अपनी जगह नही बदल सकता हूं तो मैंने हर तरह से कोशिश की ताकि अच्छी तस्वीरे निकाल सकुं।

अब आप लोग ही तस्वीरे देख अपनी राय दे..... और अगर आप के साथ भी ऐसा कोई संयोग हुआ हो तो ज़रुर बतायें..!!!!!





अगर लेख पसंद आया हो तो इस ब्लोग का अनुसरण कीजिये!!!!!!!!!!!!!



"हमारा हिन्दुस्तान"... के नये लेख अपने ई-मेल बाक्स में मुफ़्त मंगाए...!!!!

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत उम्दा नज़ारा.... काफ़ी अच्छी तस्वीरे हैं.. तुम्हारा वक्त कैसा गुज़र रहा है....

    उत्तर देंहटाएं
  2. काशिफ़ काफ़ी अच्छी तस्वीरे हैं...लेकिन अगर आपको जगह बदलने की इजाज़त मिल जाती तो बहुत ज़्यादा तस्वीरे मिल सकती थी लेकिन आपका और हमारा खराब नसीब की आपको इजाज़त नही मिली...

    कुछ और अच्छी तस्वीरे हो तो हमें ज़रुर दिखायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी तस्वीरे है... आगे के सफ़र के लिये शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं

आपके टिप्पणी करने से उत्साह बढता है

प्रतिक्रिया, आलोचना, सुझाव,बधाई, सब सादर आमंत्रित है.......

काशिफ आरिफ

Related Posts with Thumbnails